Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030 | Lic Share Price Target 2022 | Lic Share Price Target 2023 | Lic Share Price Target 2025 | Lic Share Price Target 2030 | Lic Share Analysis In Hindi | Lic Share Target

INTRODUCTION-

मेरे प्रिय दोस्तों,नमस्कार। आज के इस लेख में हम लोग बात करने वाले हैं एलआईसी के बारे में। यदि आपने एलआईसी के आईपीओ में पैसा लगाया है।  या आप एलआईसी के शेयर में निवेश करना चाहते हैं| यह लेख बिलकुल आपके लिए है।

एलआईसी के मजबूत पक्ष और उसकी कमजोरियों को हमने भली भांति दिखाया है। आप इस आधार पर अपने रिस्क के अनुसार निर्णय ले सकते हैं।

जहाँ भी पैसे लगते हैं वहाँ रिस्क होता है।  इसलिए निवेश करने से पूर्व अपने वित्तीय सलाहकार से सलाह अवश्य ले लें।

Company Overview

भारतीय संसद ने 19 जून 1956 को  एलआईसी कॉरपोरेशन एक्ट पास किया।

इस एक्ट के पास होने के पश्चात एलआईसी का निर्माण  1 सितंबर 1956 को हुआ। एक बेहतर प्राइस पर जिन लोगों का इंश्योरेंस किया जा सकता है, उन लोगों का इंश्योरेंस करने के लिए ही इसका निर्माण हुआ।

खासकर इसका निर्माण ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों का इन्सुरेंस करने के लिए किया गया।

Lic Market Share

एलआईसी ने जो DRHP  सेबी के समक्ष प्रस्तुत किया है उसके अनुसार, भारत के कुल इन्सुरेंस बाजार का 64.1%  बाजार हिस्सेदारी एलआईसी के पास है। यदि हम अन्य इंश्योरेंस कंपनियों की बात करें तो, अभी यार लाइफ का बाजार हिस्सेदारी है इससे 7.83%, एचडीएफसी लाइफ का 7.63%,  मैक्स लाइफ का 3.4% है।

यहाँ आप स्पष्ट रूप से देख सकते हैं कि एलआईसी का मार्केट शेयर काफी अधिक है। आप कह सकते हैं कि कंपनी मार्केट लीडर है।

This image is graphical representation of, lic market share percentage
Lic Market Share

 

परन्तु, ये बात भी जानना आवश्यक है। एलआईसी का मार्केट शेयर लगातार घट रहा है। 2014 में एलआईसी का बाजार हिस्सेदारी  75% थी। जो 2022 में घटकर 64% हो गई।

यदि न्यू बिज़नेस प्रीमियम के अनुसार बात करें, तो लगभग 66.2% बाजार हिस्सेदारी एलआईसी के पास है।

ऐसे में कहा जा सकता है की कंपनी के पास एक बड़ी बाजार में पहुँच है। जिंस उद्देश्य से इसका निर्माण किया गया था। उस उद्देश्य को पूरा करने में ये सफल रही है।

कंपनी अपने बिज़नेस को भली भाँति 66  वर्षों से करती आ रही है। और इसकी काफी अधिक संभावना है कि आगे भी करती रहेंगी| कंपनी काफी भरोसेमंद हैं और देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी है|

ऐसे में, निवेशकों का झुकाव स्वाभाविक था। इसमें निवेश हेतु सरकार ने हर संभव प्रयास किया।

 

Lic Ipo – सफल कंपनी का असफल आईपीओ

देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी एलआईसी ने अपना आईपीओ लाया। लोगों के बीच काफी उत्साह रहा। इस आईपीओ के लिए 4 मई से 9 मई के बीच लोगों ने अप्लाई किया।

(Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030)

Analysis of LIC IPO to Determine Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030, Image One logo of LIC. Image text. Stating that- Success company failed IPO.
Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

 

इस आईपीओ का प्राइस बैंड ₹902 से ₹949 के बीच रखा गया। जहाँ एक शेयर का फेस वैल्यू ₹10 का है। 15  शेयर के लौट निर्धारित किए गए।

सरकार ने इस आईपीओ के जरिए अपनी 3.5% हिस्सेदारी बेचकर करीब 21,000 करोड़ रुपए जुटाने का प्रयास की है।

इस IPO में खुदरा निवेशकों, पात्र कर्मचारियों और  पॉलिसी होल्डर को कुछ छूट भी दिया गया।

कंपनी ने अपने शेयर को 17 मई को बाजार में लिस्ट किया।

Lic Ipo- Story Of a Failed Ipo

इस आईपीओ में बहुत सारे नए निवेशकों ने निवेश किया। उन्होंने डीमेट अकाउंट खोला।  हर जगह एलआईसी के आईपीओ की बात हुई। सबसे संदेश आए निवेश के लिए।

17 मई के दिन जब बाजार में लिस्ट हुई लाइफ इंश्योरेंस कंपनी। तब इसने लोगों को 5 मिनट की कैंडल पर, failed breakout trading स्ट्रैटजी सिखाई।

जब किसी से शेयर का ब्रेकआउट फेल होता है, तो क्या करना चाहिए?  एलआईसी ने इसे भली भांति पाठ पढ़ाया।

स्टॉक में ₹865 पर ओपन होकर ₹918.95  रूपये के उच्चतम स्तर को छुआ।  स्टॉक अपने है अपर प्राइस बैंड के लेबल तक भी नहीं पहुँच पाया।

निवेशकों को निराश किया। और अपनी नियति की तरफ मुड़ गया। अभी तक इस स्टॉक में करीब 20% की गिरावट हो चुकी। आगे और भी होने की संभावना है।

This image show the falling price of LIC. LIC is continuously falling. Making difficult to predict the. Price forecast for LIC.
LIC Share Analysis

 

परंतु ऐसा क्यों हुआ? ऐसी कंपनी जिसके पास देश का 65% मार्केट शेयर है। इस तरह का प्रदर्शन शोभा नहीं देता।

लोगों को निराश करने वाला एलआईसी का आईपीओ अकेला नहीं है। इस सूची में अन्य कई नाम है। जिन्होंने लोगों को निराश किया है।

जैसे -AGS TRANSACT TECH ,UMA EXPORT,  Go children’s Medicare. Prudent corporate advisory service. Ethos  Limited.

ये 2022 में फेल हुए आईपीओ के कुछ नाम है। 2021  मैं महा फैल आईपीओ आया था। उसका नाम था पेटीएम।  यह अपने इशू प्राइस से 80% से ज्यादा गिर गया। न जाने इस में निवेशित निवेशकों का निवेश कब  वापस निकलेंगे।

Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

MAYA SHARES

lic Strength

Insurance Means Lic –   एलआईसी ने लोगों के दिलों दिमाग पर इस तरह से छाया हुआ है, कि आज इंश्योरेंस का मतलब एलआईसी  होता है। ये हासिल किया है एलआईसी ने, प्रचार प्रसार करके। आम तौर पर सरकारी कंपनियां इतनी प्रचार नहीं करती है। परन्तु एलआईसी ने कभी मौका गंवाया नहीं है।

ज़िंदगी के साथ भी, जिंदगी के बाद भी एलआईसी का फेमस स्लोगन रहा है। इसके जरिए एलआईसी ने लोगों के दिल को छुआ है।

 

Trust- हमारे देश में प्राइवेट कंपनियां कितनी भी तरक्की कर ले, सरकार कितनी भी  निकम्मी हो जाए।। परंतु सरकारी कंपनियों से लोगों का भरोसा नहीं हटता है,और ऐसा होने के कारण भी मौजूद है। परन्तु वह  अलग विषय है।

एलआईसी पर लोगों का भरोसा है। यही कारण है कि इनका बाजार हिस्सेदारी बहुत अधिक है।

भरोसा बनाने में समय लगता है और एलआईसी ने लगाया है।  ऐसे में लोग अपना  कठिन परिश्रम से कमाया पैसा भरोसेमंद को ही देंगे। मुझे लगता है एलआईसी का यह सबसे बड़ी संपत्ति है।  जिसका मूल्यांकन उसके बैलेंस शीट में नहीं है।

Distribution Network-  एलआईसी के निर्माण का उद्देश्य था, ग्रामीण क्षेत्रों में प्रवेश करना।  जहाँ अन्य कंपनियां शहरी क्षेत्रों में सिमट कर रह गई है। ऐसी अपने नेटवर्क को इतना मजबूत किए हुए हैं, की आज हर गांव में इसके एजेंट मौजूद है।  और हर जगह से,  इन्हें बिज़नेस मिल रहा है।

आज कंपनी के पास लगभग 15,00,000 एजेंट और 2,00,000 एंप्लॉयी है। यह एक बहुत बड़ी नंबर है। कंपनी के पास करीब 30,00,00,000 पॉलिसी है। यह सब संभव हुआ है, अपने डिस्ट्रिब्यूशन नेटवर्क पर काम कर के।

आज एलआईसी जहाँ है, वहाँ अन्य कंपनियों को पहुंचने में मेरे अनुमान से  पचासों वर्ष लग सकते हैं। फिर भी शायद संभव न हो।

Lic Weakness-

Decreasing Market Share –  एलआईसी के एक आंकड़े के अनुसार  2014 में कंपनी का   बाजार हिस्सेदारी  75% थी।  जो 2022 में घटकर मात्र 64% रह गई है। जैसे-जैसे प्राइवेट कंपनियां इस सेक्टर में बढ़ रही है। एलआईसी अपना बाजार हिस्सेदारी खोता जा रहा है।

यह एक गंभीर विषय है। एलआईसी को इस पर अवश्य ध्यान देना चाहिए।

टेक्नोलॉजी  की कमी–  एलआईसी को जो भी बिज़नेस मिलता है मुख्य रूप से इसके एजेंट लेकर आते हैं। एलआईसी का लगभग 97% बिज़नेस इसके एजेंट के द्वारा लाया जाता है। ये एजेंट लोगों के घर घर जाकर पेपर वर्क करते हैं और पॉलिसी बेचते हैं।

अन्य कंपनियां टेक्नोलॉजी से अधिक जुड़ी हुई है। एक अच्छा शिक्षित आदमी  जो चाहता है कि घर से ही वो आप बीमा संबंधित सारे काम निपटा लें। ऐसे में वह अन्य कंपनी के साथ जुड़ सकता है।

Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030
Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

 

High Premium- आमतौर पर ऐसा देखा जाता है कि एलआईसी का प्रीमियम अन्य कंपनियों की तुलना में अधिक है। ऐसा इसलिए भी है क्योंकि, इनका अत्याधिक वर्क फिजिकल फॉर्मेट में होता है। जिसमें एजेंट के द्वारा बिज़नेस लाया जाता है और ऐसे में कॉस्ट बढ़ जाता है।

ऐसे में कंपनी की मजबूरी हो जाती है प्रीमियम को अधिक रखना।

ऐसे में ज्यादा संभावना है, कि लोग अन्य कंपनियों की तरफ शिफ्ट हो। जो काफी सस्ते दर पर बीमा उपलब्ध करा रहे हैं।

Risky Investment- आम तौर पर इंश्योरेंस कंपनियों के पास कैश फ्लो अधिक रहता है। प्रीमियम के तौर पर जो कैश उपलब्ध होता है, उससे कंपनियां भरी रहती है।  एलआईसी अपने कैश का, इक्विटी मार्केट, बॉण्ड, गवर्नमेंट सेक्युरिटीज वगैरह में निवेश करती है।

एलआईसी के मैनेजिंग डायरेक्टर राजकुमार के अनुसार है- एलआईसी अपने एसेट अंडर मैनेजमेंट (AUM) का लगभग 25%  शेयर बाजार में निवेश करती है।

जहाँ एलआईसी के पास बड़ी बड़ी कंपनियों में बड़े बड़े इन्वेस्टमेंट है। एनएससी के टोटल मार्केट कैपिटलाइजेशन का लगभग 4% नहीं, इक्विटी में निवेश किया हुआ है। बाजार में 130 बिलियन का निवेश किया हुआ है। एलआईसी, रिलायंस के 6.13%  स्टेक का मालिक है। यह लगभग 97,000 करोड़ के बराबर है।

एलआईसी ने कुछ रिस्क इन्वेस्टमेंट भी किया है। जैसे रिलायंस कैपिटल, दीवान हाउसिंग फाइनैंस लिमिटेड, वीडियोकोन इंडस्ट्रीज, गीतांजली जेम्स। यहाँ कंपनी का पैसा डूबता हुआ दिखता है।

साथ ही एलआईसी ने फाइनेंशियल ईयर 2022 में 8.5% का रिटर्न हीं हासिल कर पाई है। चुकी एलआईसी पूरे बाजार में निवेशित है। ऐसे में  इस के निवेश पर कम रिटर्न मिलना स्वाभाविक है।

 

आइए, अब हम इसके कुछ फाइनेंशियल ओवरव्यू को देख लेते हैं। इतनी बड़ी कंपनी, इतना बड़ा बिज़नेस क्या कमा रही है?

LIc Financial Overview-

जब एलआईसी ने अपना आईपीओ लाया था। उस वक्त इसका मार्केट कैपिटलाइजेशन,600,242 cr  था।  जो अब घट कर के 44885 cr  रह गया है। बीते लगभग 15 दिनों में एलआईसी ने 1,51,357 करोड़  गंवाए हैं।

अभी फिलहाल कंपनी का p/e ratio 111 का है। जबकि आईपीओ के  समय प्राइस टूअर्निंग रेशियो 202 था।

(Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030)

Market cap  448885 CR
Number of share 632.50 CR
Current market price 710
P/E 111
Industry P/E 75.8
EPS 6.39
P/B  43.12
ROE 48.22%
ROCE 142.6%
debt-to-equity 0.00
Promoters holding 96.5%

LOVE TO READ-What Is PE Ratio In Hindi

Analysis of Profit And Loss Statement Of LIC

This image show the. Profit and loss statement Of LIC share. Message mark with. Sales. Operational profit margin tax, ,net profit.
Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

LIC का प्रॉफिट एंड लॉस स्टेटमेंट को ध्यान से देखिए।  कंपनी का सेल्स औसतन 8%  की दर से बढ़ी है। आमतौर पर किसी भी कंपनी से ऐसा किया जाता है। क्यों है 10%  या उससे अधिक है तेजी से ग्रो करें। एलआईसी के मामले में यह औसत है।

आइए अब हम कंपनी का ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन देखते हैं।  मात्र 1-2 प्रतिशत के  प्रॉफिट मार्जिन पर कंपनी काम कर रही है|

परन्तु फिर भी यह नंबर खराब नहीं है। आम तौर पर इन्सुरेंस कंपनियों का ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन बहुत कम दिखता है।

Love To Read-Income Statement Kya Hota Hai

यदि हम आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल की बात करें, तो उसके ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन  5-7 प्रतिशत तक कई बार निगेटिव में जा चूके हैं। एसबीआइ लाइफ इंश्योरेंस का ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन भी 1-2 प्रतिशत का है। यह भी कई बार निगेटिव हो चुका है।

एचडीएफसी लाइफ एक इकलौती कंपनी है जिसका ऑपरेटिंग प्रॉफिट मार्जिन 3-4 प्रतिशत तक रहता है।

 

Tax- एक चीज़ यहाँ  समझ से परे है, कि आखिर एलआईसी पे इतना अधिक टैक्स क्यों? एचडीएफसी लाइफ के टैक्स 10-20 प्रतिशत, एस बी आई लाइफ 10-30 प्रतिशत, आईसीआईसीआई प्रूडेंशियल 10-20 प्रतिशत  परन्तु  एलआईसी  पर टैक्स 75%. यह किस बात के लिए है?

इससे कंपनी की प्रॉफिटेबिलिटी पर काफी प्रभाव पड़ा है।

Net Profit- मार्च 2022 के आंकड़ों के अनुसार, जहाँ एचडीएफसी लाइफ  अपने 65,4002 cr, की सेल पर 1208 cr  का नेट प्रोफिट अर्जित करता है।  वही  एलआईसी 720,515 cr  के सेल्स पर 4043 cr  का नेट प्रोफिट अर्जित करता है।

मेरे कहने का अर्थ है, एलआईसी का सेल्स  एचडीएफसी की तुलना में 11 गुना अधिक है। परंतु इसका नेट प्रोफिट एचडीएफसी लाइफ की तुलना में मात्र तीन गुना अधिक है।

कंपनी को अपने बॉटम लाइन को सुधारने पर ध्यान देना चाहिए। सेल और प्रोफिट का एक अच्छा रेसियो मेंटेन करना होगा|

What Is PB Ratio In Hindi

Balance Sheet analysis Of Lic- (Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030)

Balance sheet of LIC., It is used to analyse,Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030
Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

आमतौर पर वित्तीय वर्ष 2021 से पूर्व   एलआईसी का रिज़र्व बहुत कम हुआ करता था।

क्योंकि एलआईसी अपने अधिकतर  पैसे को पॉलिसी होल्डर और शेयर होल्डर में डिस्ट्रीब्यूट कर देती थी।

परन्तु 2021 के बाद से, कंपनी रिज़र्व के फॉर्म में पैसे को इकट्ठा कर रही है।

मार्च  2020 तक एलआईसी के ऊपर 2,53,414 करोड़ का लोन था।  जब एलआईसी ने आईडीबीआई बैंक के 51%  हिस्से का मालिक हो गया, तो आईडीबीआई बैंक एलआईसी का सब्सिडरी हो गया। इस तरह से कंपनी का डेट को हटाया गया। बैलेंस शीट से।

 

Investment- एलआईसी ने अपने अधिकतर पैसे को निवेश किया हुआ है। इस निवेश के पैसे से डिविडेंड के फार्म में बोनस के फॉर्म में कंपनी को अच्छी खासी आय होती है। उसमें से अपने खर्चे को कंपनी निकालती है। बाकी के पैसे को  खो देती है और रिज़र्व के रूप में जमा करते हैं।

 

यह निवेश गवर्नमेंट सिक्योरिटी, बॉण्ड शेयर बाजार में है। इस निवेश से कंपनी करीब 8-9 प्रतिशत की वार्षिक आय उत्पन्न कर रही है।

 

Lic Share Price Target 2022

दिन प्रतिदिन महंगाई बढ़ती जा रही है। ऐसे में जीवन यापन कठिन होता जा रहा है।

आज का बर्ग और आने वाली पीढ़ी  अपने भविष्य को लेकर काफी चिंतित है। वे जॉब के साथ अपने भविष्य की सुरक्षा के बारे में सोच रहे हैं।

ऐसे में बीमा कंपनियों के, पेंशन योजना या सेवानिवृत्ति योजना में लोगों का काफी बिसवास बन रहा है।

सरकारी नौकरी में भी पेंशन बंद हो गई है। जो पेंशन की राशि मिलने वाली होती है वो बहुत कम है। ऐसे में लोग भविष्य में ऐसी योजनाओं की तरफ बढ़ सकते हैं। क्योंकि ऐसी योजनाओं में जोखिम कवर भी किया जाता है। मन की राशि पे एक अच्छा रिटर्न दिया जाता है।

ऐसे में हम कह सकते हैं कि आने वाले समय में  चुकी एलआईसी मार्केट लीडर है तो अच्छा परफॉर्म कर सकती है।

2022 के अंत तक एलआईसी 850 के लेवल तक पहुँच सकती है। यह एक अनुमान है।

Lic Share Price Target 2023

हम लोग किसी भी प्रॉडक्ट को खरीदते हैं। तो गारंटी की बात करते हैं। इंश्योरेंस कंपनियां ऐसे कई सारे प्रोडक्ट्स लाए हैं। जिसमें जोखिम कवर के साथ साथ ग्रांटेड रिटर्न की बात की जा रही है। लोगों के द्वारा ऐसे प्रोडक्ट्स काफी पसंद किए जा रहे हैं।

ऐसे में कंपनियों के लिए एक बेहतर अपॉर्चुनिटी हो सकती है।

परन्तु, अन्य बिज़नेस के मामले में इंश्योरेंस  के व्यवसाय में सेल्स की तुलना में प्रोफिट बहुत कम दिखता है। ऐसे में आप अपने पोर्टफोलियों को डायवर्सिफाई करने के लिए कुछ पैसे को निवेश कर सकते हैं।

 

Lic Share Price Target 2023  के लिए  लगभग 900 हो सकता है। जिंस रफ्तार से शेयर में गिरावट हुई है। उस रफ्तार से रिकवरी होना  थोड़ा मुश्किल लग रहा है।

क्योंकि, जो लोग खरीद कर फंसे हुए होते हैं उस कारण से सेलिंग प्रेशर बना रहता है।

Lic Share Price Target 2025

2020 में कोरोना वायरस से की महामारी में काफी मौतें हुई। ऐसे में बीमा की तरफ लोगों का झुकाव काफी बढ़ गया। देश के युवा वर्ग टर्म इंश्योरेंस को लेकर के बात करने लगा। और यही कारण है कि आज टर्म इंश्योरेंस की मांग बाजार में बढ़ती जा रही।

 

लोग अपना पैसा उसी कंपनी को देना पसंद करते हैं।  जो भरोसेमंद होती है। लाइफ इंश्योरेंस इसकी फादर है। यदि कंपनी अपने प्रॉफिटेबिलिटी पर ध्यान देती है।

 

अपने निवेश को ढंग से करती है।  डूबती हुई कंपनियों को बचाने में कम भागीदार होती है। तो अच्छा प्रदर्शन कर सकती है। परंतु इस सारे कंडीशन मिलने वाले एक साथ है नहीं।

2025 तक एलआईसी का शेयर प्राइस 1064  के लेबल तक पहुँच सकता है।

Lic Share Price Target 2030

एलआईसी को लगभग 97% बिज़नेस एजेंट के माध्यम से आता है।  इस पर कंपनी द्वारा उन्हें 25-30 प्रतिशत तक का कमीशन दिया जाता है।

 

भारत में अब लोगों का झुकाव ऑनलाइन की तरफ बढ़ता जा रहा है। ऐसे में ऑनलाइन पॉलिसी की मांग बढ़ती जा रही है। चुकी कंपनी अपनी वेबसाइट के माध्यम से ऑनलाइन पॉलिसी बेच रही है। जिसपर इसे किसी एजेंट को कमीशन नहीं देना पड़ रहा है।

 

ऐसे में 25-30 प्रतिशत की मोटी आय कंपनी बचा सकती है। क्योंकि इससे कंपनी के खर्चे कम होंगे और कंपनी की प्रॉफिटेबिलिटी बढ़ेगी।

 

ऐसे में एलआईसी को अपना डिजिटल पहुँच बढ़ाना होगा। परन्तु एलआईसी यहाँ पिछड़ रही है।

कंपनी को इस पर ध्यान देना होगा। 2030 तक एक अनुमान के मुताबिक कंपनी का शेयर प्राइस ₹1200 तक जा सकते हैं।

निष्कर्ष-  Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

एलआईसी देश की सबसे बड़ी भरोसेमन्द कंपनी है। यह अपने क्षेत्र की मार्केट लीडर है।  परंतु बीते कुछ वर्षों से प्राइवेट प्लेयर की पहुँच बढ़ती जा रही है। एलआईसी का मार्केट शेयर घटता जा रहा है। यह एक मेजर क्न्सर्न हो सकता है। जिसपर निवेश से पूर्व ध्यान देना होगा|

 

जब भी किसी बिज़नेस में निजी कंपनियां प्रवेश करती है। तो सरकारी कंपनियों के लिए एक अच्छा प्रदर्शन कर पाना निजी कंपनियों की तुलना में कठिन हो जाता है।

 

जैसे- इस क्षेत्र में इंडिगो ने अपनी  विकास गाथा लिखी तो एयर इंडिया गायब हो गई। दूरसंचार से क्षेत्र में बीएसएनएल भी इसी का ताजा उदाहरण है।

 

किसी के पास एक सबसे बड़ी अच्छी चीज़ है, वह है भरोसा।

आप वैसी किसी भी कंपनी का बीमा लेना पसंद नहीं करेंगे जिसपर आपको भरोसा नहीं हो। एलआईसी अपने भरोसे को कायम रखती है।

और भविष्य में शेयर होल्डर के भी भरोसे पर खरी उतरती है। तो इसका भविष्य बेहतर हो सकता है।

Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030
Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

₹949 के अपर प्राइस बैंड से कंपनी करीब ₹300 गिर चुकी है। और यह गिरावट लगभग 30% है। ग्लोबल मार्केट का मूड खराब है। ऐसे में सारी कंपनियां लगभग खराब प्रदर्शन नहीं की है।

कंपनी का आईपीओ भी उसी बीच आया। एसएमएस सेलिंग प्रेशर देखने को मिलना लाजिमी था।

अब देखना ये है की कंपनी  किस प्राइस पर सस्टेन करती है| के प्राइस मूवमेंट से कहीं भी सपोर्ट नहीं दिख रहा है।

यदि कंपनी का रुख में कोई बदलाव दिखता है। तो इस लेख के माध्यम से अपडेट करने का प्रयास किया जाएगा।

फिर भी यदि आपके कोई विचार इससे विपरीत हो। तो आप कमेंटबॉक्स में अवश्य बताएं।

आपकी बिचार की प्रतीक्षा रहेंगी।

Join us on telegram           –    Click Here

Join us on YouTube           –   Click Here

Join us on Facebook          –   Click Here

FAQ- Lic Share Price Target 2022,2023,2025,2030

[sc_fs_multi_faq headline-0=”h2″ question-0=”एलआईसी के बाजार हिस्सेदारी कितनी प्रतिशत है?” answer-0=”एलआईसी ने जो DRHP सेबी के समक्ष प्रस्तुत किया है उसके अनुसार, भारत के कुल इन्सुरेंस बाजार का 64.1% बाजार हिस्सेदारी एलआईसी के पास है। यदि हम अन्य इंश्योरेंस कंपनियों की बात करें तो, अभी यार लाइफ का बाजार हिस्सेदारी है इससे 7.83%, एचडीएफसी लाइफ का 7.63%, मैक्स लाइफ का 3.4% है।” image-0=”” headline-1=”h2″ question-1=”एलआईसी के आईपीओ का आवेदन कब तक हुआ था?” answer-1=”देश की सबसे बड़ी इंश्योरेंस कंपनी एलआईसी ने अपना आईपीओ लाया। लोगों के बीच काफी उत्साह रहा। इस आईपीओ के लिए 4 मई से 9 मई के बीच लोगों ने अप्लाई किया।” image-1=”” headline-2=”h2″ question-2=”क्या एलआईसी का आईपीओ फेल हो गया?” answer-2=”स्टॉक में ₹865 पर ओपन होकर ₹918.95 रूपये के उच्चतम स्तर को छुआ। स्टॉक अपने है अपर प्राइस बैंड के लेबल तक भी नहीं पहुँच पाया। निवेशकों को निराश किया। और अपनी नियति की तरफ मुड़ गया। अभी तक इस स्टॉक में करीब 20% की गिरावट हो चुकी। आगे और भी होने की संभावना है।” image-2=”” headline-3=”h2″ question-3=”एलआईसी की क्या मजबूत कड़ी है?” answer-3=”Trust- हमारे देश में प्राइवेट कंपनियां कितनी भी तरक्की कर ले, सरकार कितनी भी निकम्मी हो जाए।। परंतु सरकारी कंपनियों से लोगों का भरोसा नहीं हटता है,और ऐसा होने के कारण भी मौजूद है। परन्तु वह अलग विषय है।” image-3=”” headline-4=”h2″ question-4=”2025 में एलआईसी का टारगेट क्या हो सकता है?” answer-4=”लोग अपना पैसा उसी कंपनी को देना पसंद करते हैं। जो भरोसेमंद होती है। लाइफ इंश्योरेंस इसकी फादर है। यदि कंपनी अपने प्रॉफिटेबिलिटी पर ध्यान देती है। 2025 तक एलआईसी का शेयर प्राइस 1064 के लेबल तक पहुँच सकता है।” image-4=”” count=”5″ html=”true” css_class=””]

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top